शुक्रवार, 12 अक्तूबर 2012

इंडियन क्रेजी फॉर अनमैरिड पर्सनालिटी

अविवाहित शख्सियत के लिए भारतीयों में दीवानगी

हमारे देश ने आजादी के ६५ सालों में आर्थिक, वैज्ञानिक, शिक्षा के रूप में जो तरक्की की है वह पूरी दुनिया के लिए एक मिसाल है। इसके अलावा भारतीय समाज के हर वर्ग का विकास, खासकर युवकों ने जो हमारे देश की तरक्की में योगदान दिया है उसे देश कभी नहीं भूल सकता, पर इन सब के अलावा भी कुछ ऐसे लोग जिन्होंने अपने निजी स्वार्थ को कुचलकर, अपनी निजी इच्छाओं को त्याग कर समाज और देश के लिए जो योगदान दिया है या कहे बलिदान दिया है उसे कोई भी हिन्दुस्तानी कभी नहीं भूल सकता। आने वाला समय या हिंदुस्तान का उज्जवल भविष्य इन्हीं के किए हुए कर्मों का मार्गदर्शन कर आगे बढे़गा। जी हां हम बात कर रहे हैं जीवनभर अविवाहित रहने का संकल्प लेने वाली शख्सियतों के बारे में।

  दोस्तों आज मैं हिंदुस्तान की उन महान हस्‍तियों को जिक्र कर रहा हूं जिन्होंने विवाह जैसे अटूट बंधन में न बंधकर समाज और देश की सेवा को ही अहम समझा। चाहे वो सेवाएं राजनैतिक हो, सामाजिक हो, विज्ञान हो, मनोरंजन हो, या उद्योग हो। बस अपने कर्त्तव्‍य को निभाते चले आ रहे है। जिनमें मैं सबसे पहले उन दो बड़ी हस्तियों का परिचय देना चाहता हूँ जिनकी काबिलियत पर गर्व कर इस देश ने उन्हें सबसे बड़े नागरिक सम्मान यानी भारत रत्न से सम्मानित किया।
  - एपीजी अब्दुल कलाम
  - लता मंगेशकर
एपीजी अब्दुल कलाम " मिसाइल मैन ऑफ इंडिया " के नाम से मशहूर, इन्होंने भारत के लिए पहला परमाणु बम बनाया, इसके बाद ये सिलसिला आज भी लगातार जारी है. इनकी काबिलियत को देखते हुए भारत सरकार ने उन्हें २००२ में भारत का राष्ट्रपति बनाया गया। आज भी वे किसी न किसी रूप में देशसेवा में तल्लीन है. हम सभी आज उन्हें गर्व से शुभकामनाएं देते हुए सलाम करते है। दूसरा नाम लता मंगेशकर का है, "सुरों की मलिकाएं हिंदुस्तान"  जो अपनी सुरीली आवाज से पूरे देश का मनोरंजन कई दशकों तक करती आ रही. उन्होंने लगभग २० भाषा में ५००० से अधिक गीत गाए है. साल (१९४८-७४) के बीच २५०० गीत गाने  का  "The guinness book of records"  है। जो कि एक विश्व रिकॉर्ड है. और आज भी ये सुरों की मलिका हमारे देश के लिए किसी न किसी रूप में सेवाएं दे रही है।

  अब हम भारतीय राजनीति की बात करें तो उसमें भी सबसे सफल और आदर्श के साथ लिए जाने वाला नाम अटल बिहारी वाजपयी है, जो की एक बहुत ही अच्छे कवि के रूप में भी जाने जाते है, जिनकी कई कविताएं काफी प्रचलित भी हुई. सिद्धांतवादी इस हस्ती ने ये फैसला किया की वे कभी विवाह नहीं करेंगे और अपना पूरा जीवन देश सेवा के लिए समर्पित कर दिया. अटलजी भारत के दो बार प्रधानमंत्री रह चुके है और देश की दूसरी सबसे बड़ी पार्टी यानि भारतीय जनता पार्टी के खासमखास भी है।

आज हम देश की राजनीति की सबसे बड़ी बहस की चर्चा करें या २०१४ के लोकसभा चुनाव के बाद प्रधानमंत्री पद के दावेदारों का उल्लेख करे तो सबसे ऊपर दो अविवाहित राजनेता नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी का ही नाम आता है। इसमें कोई शक नहीं है कि भारतवासी नरेंद्र मोदी को विकास पुरुष के रूप में देख रहे है। गुजरात का जिस तरह से उन्होंने विकास किया है वो सबके सामने है। वहीं दूसरी ओर गांधी परिवार ने इस देश के लिए अपनी जान तक दी है तो आज उस परिवार के युवा राजनेता राहुल गाँधी देश के युवाओं की धड़कन बन गए है। वे अपने निजी स्वार्थ को न देखते हुए सक्रिय राजनीति में है। राजनीतिज्ञ विशेषज्ञों की मानें तो २०१४ में होने वाले लोकसभा चुनाव में ये दोनों ही हस्तियां अपनी-अपनी पार्टियों के लिए सबसे बड़ी और अहम भूमिका निभाएंगी।

अब हम बात करते है भ्रष्टाचार जैसे ज्वलनशील मुद्दे पर। जिस तरह आज हमारा देश भ्रष्टाचार जैसे मुद्दे को लेकर जागरूक हुआ है उसका सारा श्रेय समाज सेवी अन्ना हजारे को ही जाता है। अन्ना जी ने जिस तरह भ्रष्टाचार का मुद्दा देश की जनता के सामने उठाया है उससे पूरे देश में क्रांति ला दी है।  केंद्र सरकार या राज्य सरकारों द्वारा किए गए कई घोटाले सामने आ रहे है। अगर हमारा देश सुधार के रास्ते पर चलता है तो इसका काफी कुछ श्रेय अन्ना जी को ही जाएगा। आने वाला राजनीतिक परिवर्तन भी इन्हीं की वजह से कहलाएगा। यूं कहे तो अन्ना जी जो देश के लिए कर रहे है वो हमें महात्मा गांघी की याद दिलाता है। हमारा भारतीय समाज इस महापुरुष, अन्ना हजारे का आभार व्यक्त करता है।

आज भारतीय समाज में महिलाओं को जो मान सम्मान दिया जा रहा है वह काबिले तारीफ है, पर उसमें भी देखा जाए तो अविवाहित महिलाएं ज्यादा लोकप्रिय है। इनमें अगर हम कुछ नाम लें, जैसे- ममता बनर्जी ,जयललिता, मायावती, उमा भारती। अब इन नामों को देखा जाए तो ममता बनर्जी और जयललिता क्रमशः पश्चिम बंगाल और तमिल नाडू की मुख्यमंत्री है। अब मायावती और उमा भारती क्रमशः उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री रह चुकी है। यानी भारतीय राजनीति में इन महिलाओं को विशेष स्थान मिल चुका है। भविष्य की बात करें तो यह कहना गलत नहीं होगा कि किसी भी पार्टी को इनके सहयोग के बिना सरकार बनाना मुश्किल दिखाई देता है। यानी आने वाले लोकसभा चुनाव में ये महिलाएं अपनी अहम भूमिका निभाएंगी।
 
अब हम उद्योग जगत के क्षेत्र में चर्चा करे तो हिंदुस्तान का सबसे सम्मानीय उद्योग घराना टाटा समूह का नाम सबसे ऊपर देखा जाता है। जिससे जुड़ी शख्तियत रतन टाटा है। वे भी अविवाहित है। उन्होंने देश में हमेशा से ही ऐसा व्यापार किया है जिससे कि देश की जनता का भला हो, ऐसे प्रोडक्ट जनता के सामने पेश किए, जिसे लोग उसे आसानी से अपना सके। आज भी देश में टाटा के प्रोडक्ट सबसे ज्यादा विश्वसनीय माने जाते है। यहां तक की देश की जनता को १ लाख की कार टाटा नैनो दे दी और निस्वार्थ भाव से आज भी निरंतर देश की जनता के लिए कुछ कर गुजरने की चाहत रखते है।

अगर हम भारतीय फिल्म उद्योग की बात करें तो आज का सबसे बड़ा सुपरस्टार, जिसकी पूरी दुनिया दीवानी है जिसके फेसबुक पर आते ही सदी के महानायक अमिताभ बच्चन और क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर को भी पीछे छोड़ दिया, ऐसी चाहत लोगो के दिलों में बिठाने वाले और अपनी जिंदगी के ४७ बसंत देख लेने के बाद भी अभी तक अविवाहित है। जी हां हम सलमान खान के बारे में बात कर रहे है। जिन्होंने लगातार ५ सुपर हिट फिल्म देकर भारतीय फिल्म जगत के सबसे महंगे और सबसे चहेते सितारे बन गए है। सलमान खान के बारे में कहा जाता है की " वो यारो के यार है " और समाज सेवा के क्षेत्र में वो गरीब व अनाथ बच्चों के लिए चेरिटेबल ट्रस्ट भी चलाते है उनकी "Human Being"  ट्रस्ट काफी शोहरत बटोर चुकी है. हमारा इस सुपरस्टार तो सत-सत सलाम !

तो दोस्तों! यही वे लोग है, जिन्हें लेकर आज के हिंदुस्तानी काफी क्रेजी है। इसीलिए कहा जाता है-"Indian crazy for unmarried personality"                                                                                                                   
         (लेखक अरशद अली छिंदवाड़ा जिले के मूलनिवासी है। फिलहाल मुंबई में कार्यरत है।)