सोमवार, 27 मई 2013

छिंदवाडा छवि से मिली जिले को नई पहचान

जिले की पहली हिंदी वेबसाइट छिंदवाडा छवि की पांचवीं सालगिरह पर सेमिनार का आयोजन
जिले को पर्यटन केंद्र बनाने में मददगार छिंदवाडा छवि : संजय गौतम
व्यक्ति और क्षेत्र की पहचान होती है वेबसाइट : डॉ ब्राउन
दैनिक भास्कर के संपादक संजय गौतम
छिंदवाडा (25 मई, 2013). वेबसाइट किसी भी व्यक्ति, व्यवसाय और क्षे़त्र की पहचान होती है। यदि आज के दौर में आपके पास ये पहचान नहीं है तो आप कुछ भी नहीं है। यह कहना था डीडीसी कॉलेज के पूर्व प्रिंसिपल डॉ ए के ब्राउन का। वे जिले की पहली हिंदी वेबसाइट छिंदवाडा छवि की पांचवी सालगिरह पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में बोल रहे थे।

   कार्यक्रम का आयोजन स्थानीय पीजी कॉलेज में प्राचार्य डॉ पी आर चंदेलकर की अध्यक्षता में किया गया। इस मौके पर हिंदी विभाग और छिंदवाडा छवि के संयुक्त तत्वाधान में युवा पीढी और संचार क्रांत्रि  विषय पर सेमिनार का आयोजन किया गया। इस दौरान माडरेटर एवं प़त्रकार रामकृष्ण डोंगरे ने वेबसाइट प्रजेंटेसन दिया। उन्होंने कहा कि वेबसाइट से जुडकर दुनियाभर में फैले छिंदवाडा वासियों को अनूठा अपनापन मिल रहा है।
  डॉ ब्राउन ने विषय पर बोलते हुए कहा कि हम सोशल साइट का इस्तेमाल करते हैं लेकिन इन वेबसाइटों पर डाले गए हमारे अपडेट, जानकारियां हमारी संपत्ति नहीं होती। इसलिए वेबसाइट बनाना बेहद जरूरी है। सेमिनार के मुख्य वक्ता और दैनिक भास्कर के संपादक संजय गौतम ने कहा कि छिंदवाडा छवि जिले को पर्यटन केंद्र बनाने में मददगार साबित हो रही है।  श्री गौतम ने कहा कि हमारा जिला पर्यटन की अपार संभावनाओं से भरा पडा है। हमें वेबसाइट जैसे माध्यम का सकारात्मक उपयोग करना चाहिए। तभी हम और हमारा छिंदवाडा जिला आगे बढ सकता है।

वरिष्ठ साहित्यकार प्रभुदयाल श्रीवास्तव ने छिंदवाडा छवि की पांचवीं सालगिरह पर बधाई देते हुए कहा कि वेबसाइट से जिले को नई पहचान मिली है जो कि सराहनीय प्रयास है। उन्होंने युवा पीढी के़ द्वारा सूचना माध्यम के सकारात्मक प्रयोग की आवश्यकता पर बल दिया।

विपिन वर्मा ने अपने विचार रखते हुए कहा कि युवा छिंदवाडा की ज्यादा से ज्यादा जानकारी वेबसाइट पर अपलोड करें। अपने अध्यक्षीय संबोधन में प्राचार्य डॉ पी आर चंदेलकर ने कहा कि इस वेबसाइट की पांचवीं सालगिरह हमारे कॉलेज में मनाई जा रही है यह हर्ष का विषय है। उन्होंने वेबसाइट के प्रयासों को गति देने के लिए सभी के सहयोग की कामना की। 

कार्यक्रम का  संचालन टेलीविजन पत्रकार अमिताभ दुबे ने किया। कार्यक्रम को सफल बनाने में भौतिक विभाग के प्रोफेसर डॉ जे के डोंगरे का विशेष सहयोग रहा। इस मौके पर हिंदी विभागाध्यक्ष डॉ लक्ष्मीचंद, प्रोफेसर विजय कलमधार, साहित्यकार ओमप्रकाश  नयन, सहजाद सिंह पटेल, विनोद बरोलिया और कई छात्र- छात्राएं मौजूद थीं।

कोई टिप्पणी नहीं: